Amalaki Ekadeshi vrat 2019: आमलकी एकादशी के दिन भूल कर भी न करें ये काम, होगी पुत्र को ये हानि

Amalaki Ekadeshi


Amalaki Ekadeshi &nbsp | &nbspतस्वीर साभार:&nbspInstagram

Amalaki ekadashi 2019: 17 मार्च यानि आज आमलकी एकादशी मनाई जा रही है। इसे आंवला एकादशी के रूप में मनाते हैं। जिस तरह से शास्त्रों में नदियों में गंगा को पहला स्‍थान प्राप्त है ठीक उसी तरह से आवंले को भी पहला स्‍थान दिया गया है। आज के दिन पूरे नियम के साथ व्रत रखने से घर में सुख समृद्धि आती है, रोग दूर होते हैं और संतान का सुख प्राप्‍त होता है। 

इस दिन आंवले का पेड़ लगाना चाहिये। आंवला औषधीय रूप में अत्यंत प्रभावशाली है। अमलाकी एकादशी कर व्रत रखने से मोक्ष का मार्ग खुलता है। व्रत ना रखने से वंश पर बुरा असर पड़ता है। आइये जानते हैं आमलकी एकादशी पर भगवान विष्‍णु की पूजा कैसे करें और साथ ही पुत्र को कोई हानि ना पहुंचे इसके लिये क्‍या नहीं करें। 

Also read: आमलकी एकादशी पर इस विधि से करें विष्‍णु जी की पूजा, मिलेगा संतान सुख

List of Ekadashi Vrat 2019

आमलकी एकादशी पर पूजा करने की विधि-

वे लोग जो आमलकी एकादशी का व्रत रख रहे हैं। उन्‍हें सबसे पहले उठ कर विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए। 

व्रत रखने वाले को इस दिन भोजन में केवल सात्विक भोजन करना चाहिए। 

सुबह उठ कर विष्णु जी का ध्यान करके व्रत का संकल्प करें। 

इसके बाद श्री विष्‍णु जी की पूजा करने के लिए धूप, दीप, चंदन, फल, तिल, एवं पंचामृत चढ़ाएं। 

पूरा दिन व्रत रख कर रात में जागरण करना चाहिए। 

Also read: वास्तु शास्‍त्र के लिहाज से इन कमियों से जूझ रहा है भारत, जानें इसे कैसे करें दूर  

आमलकी एकादशी में भूल कर भी न करें 

1. यदि आप रह सकें तो आज जल का सेवन न करें

2. यदि जल का सेवन करते हैं तो अन्न कदापि न ग्रहण करें। फलाहार रहें। बालक, वृद्ध और रोगी व्रत न रहें।

3. लहसुन, प्याज का सेवन ना करें। न ही घर में चावल बनाएं।  

4.  मांस और मदिरा का सेवन ना करें नहीं तो नर्क की यातनाएं झेलनी पड़ सकती हैं।  

5. किसी भी प्रकार की हिंसा मत करें।

6. मन, वचन और कर्म से किसी को दुख न दें। 

7. आज अपनी एक बुराई को त्याग करने का दृढ़ संकल्प लें। 

8. यदि आप कोई भी नशा करते हों तो आज उसे पूर्णतया त्याग का संकल्प लें। 

9. माता पिता को कष्ट मत दें। 

10. किसी भी गरीब व्‍यक्‍ति को दरवाजे से भूखा ना जाने दें। 

11. श्री हरि की निंदा ना सुनें। यदि कहीं पर हरि निंदा होती है तो वह स्थान छोड़ दें और वहां से उठ जाएं।

धर्म व अन्‍य विषयों की Hindi News के लिए आएं Times Now Hindi पर। हर अपडेट के लिए जुड़ें हमारे FACEBOOK पेज के साथ।