मकर संक्रांति पर समाप्त हो जाएगा खरमास, फिर जुलाई तक हर माह लग्न मुहूर्त

मकर संक्रांति पर समाप्त हो जाएगा खरमास, फिर जुलाई तक हर माह लग्न मुहूर्त

– सूर्य के मकर राशि में पहुंचने के साथ ही खत्म होगा खरमास, शुरू होगा मांगलिक कार्यों का सिलसिला  – जुलाई तक ८९ दिन शादियों के रहेंगे शुभ मुहूर्त  भ

सूर्य का धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश १४ और १५ जनवरी की मध्यरात्रि में होगा। मकर के सूर्य के साथ ही शुभ कार्यों की शुरुआत होगी। इस साल फरवरी, मई और जून में जमकर लग्न मुहूर्त रहेंगे। फरवरी में १७ दिन, मई में १९ दिन और जून में १५ दिन विवाह मुहूर्त विद्यमान रहेंगे। जिसमें जमकर शादियां होगी। मार्च, अप्रैल में भी लगेगा खरमास दिसम्बर जनवरी के बाद मार्च-अप्रैल में एक बार फिर खरमास लगेगा, लेकिन इन दोनों ही महीनों में सीमित लग्न मुहूर्त रहेंगे।

खरमास १५ मार्च से १४ अप्रैल तक लगेगा। इस दौरान सूर्य मीन राशि में रहेगा। ज्योतिषियों के अनुसार सूर्य का मीन राशि में प्रवेश खरमास कहलाता है, इसलिए इस माह में शादियां सहित बड़े मांगलिक कार्य वर्जित माने गए हैं। इस माह में १५ मार्च के पहले ७ दिन और १४ अप्रैल के बाद १२ दिन अप्रैल माह में मुहूर्त रहेंगे। कई सिद्ध मुहूर्तों पर भी शादियां विवाह मुहूर्तों के साथ-साथ कई स्वयंसिद्ध मुहूर्तों पर भी शादियों की धूम रहेगी।

१० फरवरी बसंत पंचमी पर शादियों के लिए अबूझ मुहूर्त रहेगा। इसी तरह 7 मई अक्षय तृतीया के दिन शादी का अबूझ मुहूर्त रहेगा, इसके बाद 10 जुलाई भड़लिया नवमी पर भी विवाह के लिए अबूझ मुहूर्त रहेगा। इसी प्रकार १२ जुलाई देवशयनी एकादशी से ८ नवम्बर देवउठनी एकादशी तक चातुर्मास होने के कारण विवाह सहित सभी बड़े मांगलिक कार्य बंद रहेंगे।

इसके बाद देवउठनी एकादशी के बाद नवम्बर में ही विवाह कार्य शुरू होंगे। मान्यता अनुसार चातुर्मास में देवता शयन करते हैं इसलिए इन चार महीनों में बड़े मांगलिक कार्य वर्जित रहते हैं। वर्ष २०१९ में शादियों के महूर्त जनवरी-17,18,22,23,24,25,26,27,28,29,30,31= 1२ दिन फरवरी- 1,8,9,10,13,14,15, १९, २०, २१, २२, २३, २४, २५, २६, २७, २८ = १७ दिन मार्च-2,3,7,8,9,12,13=७ दिन अप्रैल- 15,16,17,18,19,20,21,22,23,24,25,26=12 दिन मई-1,6,7,8,९,12, १३,14,15,१६,17,19,20,21,23,२४, 28,29,30=१९ जून-4,8,9,10,11,12,13,15,17,19,20,24,25,26,२७ =15 दिन जुलाई-5,6,7,8,9,10,11=7 दिन