झमाझम वैवाहिक तिथियां, 17 से शुरू हो रही विवाह की बेला, उत्तरायण सूर्य में मुहूर्त

वाराणसी [प्रमोद यादव]। शादी- विवाह के लिए दिन गिन रहे कुंवारों के लिए इंतजार की घड़ियां खत्म होने जा रही हैं। भगवान सूर्य के मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण होने के दो दिन बाद 17 जनवरी से ही लगन-मुहूर्त का पिटारा खुल जाएगा। यह झमाझम बैंड बाजा-बरात के रूप में सामने आएगा। कारण यह कि इस लगनी सीजन के सिर्फ 57 दिनों में 37 मुहूर्त हैं। यह सिलसिला 15 मार्च को खरमास लगने के साथ विराम पाएगा।

दिसंबर में खरमास लगने के बाद से मांगलिक कार्य ठप चल रहे हैं। इसके लिए भगवान सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने का इंतजार किया जा रहा है। शुभ संचरण की घड़ी 14-15 जनवरी की मध्य रात्रि बाद 2.13 बजे आ रही है। इसकी अगली सुबह 15 जनवरी को मकर संक्रांति जन्य पुण्य काल मनाया जाएगा और दो दिन बाद 17 जनवरी से गांव से लेकर शहर तक शादी-विवाह के गीत गाएगा-गुनगुनाएगा। इसमें सर्वाधिक मुहूर्त मार्च में हैं लेकिन जनवरी में यह बेला शुरू होने के बाद चार दिनों को छोड़ हर दिन मुहूर्त हैं।

जनवरी में 12 मुहूर्त : 17, 18, 19, 22, 24, 25, 26, 27, 28, 29, 30, 31

फरवरी में 17 मुहूर्त : 1, 5, 8, 9, 13, 14, 15, 19, 20, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 27, 28

मार्च में आठ मुहूर्त : 2, 3, 7, 8, 9, 12, 13, 14 ”17 जनवरी को शुरू हो रहा लगनी सीजन 57 दिनों का है।

इसमें अंतिम लगन 14 मार्च को है, 15 मार्च को सुबह 8.10 बजे सूर्यदेव के कुंभ से मीन में प्रवेश करने के साथ खरमास लग जाएगा।” -पं. ऋषि द्विवेदी, ख्यात ज्योतिषाचार्य व संगठन मंत्री, श्रीकाशी विद्वत परिषद ।