मुख्यमंत्री ने अब गोकशी रोकने के लिए इन अफसरों को दी जिम्मेदारी, इनके क्षेत्र में हुर्इ एेसी घटना तो खैर नहीं

मुख्यमंत्री ने अब गोकशी रोकने के लिए इन अफसरों को दी जिम्मेदारी, इनके क्षेत्र में हुर्इ एेसी घटना तो खैर नहीं

इन अफसरों ने बैठक करके अपने अधीनस्थों को दिए ये कड़े निर्देश

मेरठ। गोकशी की घटना के बाद बुलंदशहर के स्याना में हुए बवाल के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोकशी रोकने के लिए कड़े निर्देश जारी किए हैं। प्रदेश के प्रत्येक जनपद में गोकशी रोकने के लिए जिन अफसरों को जिम्मेदारी दी गर्इ है, उनसे साफ कह दिया गया है कि यदि उनके यहां गोकशी की घटना होती है तो खैर नहीं है। इन अफसरों ने अपने अधीनस्थों के साथ बैठक करके कड़े निर्देश दिए हैं कि उनके क्षेत्र में गाेकशी की घटना न हो पाए। अगर इसमें ढिलार्इ बरती गर्इ तो बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर में बवाल के बाद भी गोतस्करों के हौसले बुलंद, पुलिस पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, दो इनामी पकड़े गए

सीएम ने डीएम को जिम्मेदारी दी

मुख्यमंत्री ने डीएम को गोकशी रोकने की जिम्मेदारी दी है। इस संबंध में डीएम अनिल ढींगरा ने एसएसपी अखिलेश कुमार के साथ मिलकर प्रशासनिक व पुलिस अफसरों के साथ बैठक की। बैठक में डीएम आैर एसएसपी ने कड़े निर्देश देते हुए कहा कि यदि गाेकशी की घटना होती है तो संबंधित थानेदार जिम्मेदार होगा। उन्होंने कहा कि जनपद में माहौल खराब करने वाले असामाजिक तत्वों व संदिग्ध व्यक्तियों पर पैनी नजर रखें आैर अवैध तरीके से हो रहे कामों को बिल्कुल नहीं होने दें। साथ ही अपने क्षेत्र के धर्मगुरुआें व गणमान्य लोगों के साथ शांति समिति की बैठकें भी आयोजित करें।

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर बवाल: जीतू फौजी पुलिस हिरासत में, एडीजी बोले एसआईटी की जांच में होंगे और खुलासे, देखें वीडियाे

बिना अनुमित के लाउड स्पीकर हटवाएं

शासन से मिले निर्देशों के बाद डीएम आैर एसएसपी ने अपने अधीनस्थों को जो निर्देश दिए हैं उनमें बिना अनुमति के लगे हुए लाउड स्पीकर हटवाने को भी कहा है। जनपद के दोनों अफसरों ने कहा है कि यदि उनके क्षेत्र में एेसे लाउड स्पीकर लगे हैं तो उन्हें तत्काल हटवाएं। उन्होंने कहा कि शहर आैर ग्रामीण क्षेत्रों में किसी भी असामाजिक तत्व से शांति भंग नहीं होने दें। यदि कोर्इ जिला बदर जनपद में प्रवेश करता है तो उसके खिलाफ तुरंत कार्रवार्इ करें। बैठक में सभी प्रशासनिक, पुलिस अफसर व थानेदार मौजूद रहे।