Exclusive: 'लालगढ़' में बुलेट से नहीं, बैलेट के रास्ते विकास चाहते हैं बस्तर के युवा

छत्तीसगढ़ के दक्षिणी इलाके में लालतंत्र (नक्सलियों) का गढ़ माने जाने वाली बस्तर विधानसभा सीट चुनाव के लिहाज से सबसे अहम मानी जा रही है. क्योंकि देश के सबसे बड़े नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में बक्सर की गिनती होती है. यहां शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराना सुरक्षाबलों के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है. इस बीच न्यूज18 हिंदी के संवाददाता रवि दुबे ने बस्तरिया बटालियन के उन जवानों से बात की, जो माओवादियों के आतंक से परेशान होकर CRPF की 226वीं बटालियन में शामिल हो गए.

सवाल- बस्तर बटालियन बनाने के पीछे कारण क्या था?
जवाब- बस्तरिया बटालियन बनाने का उदेश्य आदिवासी युवाओं को सीआरपीएफ के साथ जोड़ने का है, ताकि नक्सलियों का जो प्रभाव है उसे खत्म किया जा सके. नक्सली यहां गांव में रहने वाले युवाओं को अपने साथ ले जाते हैं, फिर सेना के खिलाफ इस्तेमाल करते हैं.

सवाल- बस्तर के युवाओं को 226वीं बटालियन में शामिल करके सेना को क्या फायदा मिला?जवाब- इन युवाओं को इस क्षेत्र की पूरी जानकारी है, लोकल भाषा बोल लेते हैं और नक्सली की क्या-क्या साजिश कर सकते हैं, उसकी इन युवाओं को पहले से ही जानकारी मिल जाती है. बस्तरिया बटालियन से सेना को ऑपरेशन करने में आसानी होती है. क्योंकि जंगल के रास्तों और बीहड़ों की इन्हें बेहतर जानकारी होती है.

सवाल- चुनाव के लिहाज से किस तरह की तैयारी है आपकी?
जवाब- चुनाव में हर बार की तरह इस बार भी नक्सलियों ने बहिष्कार किया है. लेकिन हमारी बटालियन ने शांतिपूर्ण चुनाव कराने के लिए पूरी तैयारी कर रखी है.

Loading…

सवाल-आप सीआरपीएफ में क्यों शामिल हुए. इसके पीछे वजह क्या थी?
जवाब-नक्सली हमारे गांव में आकर मारपीट करते थे, हमारे घरों के सामान को उठा ले जाते थे. उनके आतंक को खत्म करने के लिए मैंने सीआरपीएफ ज्वाइन किया है.

सवाल- आप अपने गांव वालों को क्या कहना चाहेंगे जो नक्सलियों में शामिल हो जाते हैं.
जवाब- मैं सभी गांव वालों के यही कहना चाहता हूं कि नक्सलियों के बहकावे में न आएं और इनके जुर्म को खत्म करने के लिए सेना की मदद करें. बस्तरिया बटालियन में शामिल होकर सेना की मदद करें.

ये भी पढ़ें-

Exclusive: ‘लोकतांत्रिक चुनाव तब होगा, जब आदिवासी खुशी से वोट डालेंगे’

छत्तीसगढ़ चुनाव: नाम वापसी, राम मंदिर विवाद, जानिए चुनावी समर में आज और क्या रहा खास

Chhattisgarh Election 2018: मैदान से हटे 101 प्रत्याशी, देखिए चुनावी हलचल की LIVE खबरें