सिमडेगा : चार राज्यों में मानव तस्करी का धंधा चलाने के आरोपी को भेजा गया जेल

रविकांत साहू@सिमडेगा

दिल्ली समेत चार राज्यों में मानव तस्करी का धंधा चलाने का आरोपी रोहित कुमार मुनि को बिहार के भागलपुर कहलगांव से गिरफ्तार कर सिमडेगा लाया गया. आज पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया गया. पूर्व में ही रोहित मुनी की पत्नी को भी गिरफ्तार किया गया है. 

घटना के संबंध में मिली जानकारी के मुताबिक जलडेगा निवासी एक व्यक्ति ने सिमडेगा एएचटीयू थाना में प्रभा मुनि तथा रोहित मुनी दोनों पति पत्नी के अलावा अन्य लोगों के विरूध नाबालिगों को बहला फुसला कर दिल्ली में बेचने के मामले में 2013 में प्राथिमकी दर्ज करायी गयी थी. 

 

उक्त मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दिल्ली से प्रभा मुनि को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. इधर पति रोहित मुनी फरार चल रहा था. गुप्त सुचना के आधार पर सिमडेगा पुलिस बिहार के भागलपुर स्थित त्रिमुहाना कहलगांव से 8 नवंबर को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की. उक्त लोगों ने मुख्य रूप से दिल्ली, बिहार, छत्तीसगढ एवं ओडिशा में मानव तस्करी का जाल बिछा रखा था. 

 

रोहित मुनी की पैठ दिल्‍ली में बड़े-बड़े नेताओं तक 

पकड़े गये रोहित मुनी की पैठ दिल्ली में बड़े-बड़े नेताओं तक है. रौब जमाने के लिए प्रभा मुनी तथा रोहित मुनी द्वारा दिसंबर में क्रिसमस पर पार्टी का भी दिल्ली में आयोजन किया जाता था. जिसमें दिल्ले के बड़े-बड़े नेताओं को आमंत्रित किया जाता था. यहां तक कि नेताओं को रैली व सभा कराने के लिए प्रभा मुनी तथा रोहित मुनी द्वारा भीड़ भी जमा कर के दिया जाता था.

 

रोहित मुनी के पकड़े जाने से मानव तस्‍करी पर लगेगी रोक : एसपी 

एसपी संजीव कुमार ने बताया कि रोहित मुनी के पकड़े जाने से मानव तस्करी पर रोक लगेगी. रोहित मुनी तथा उसकी पत्नी प्रभा मुनी के नाम पर जमा की गयी संपत्ति की भी जांच करायी जा रही है. एसपी ने बताया कि प्रभा मुनी तथा रोहित मुनी द्वारा दिल्ली में बड़े-बड़े नेताओं से फोटो खिंचवा कर पैठ बनाने की बातें सामने आयी है. 

 

श्री कुमार ने बताया कि प्रभा मुनी तथा रोहित मुनी संपूर्ण घरेलू कामगार सर्वेक्षण एवं उत्थान समिति की आड़ में ही मानव तस्करी का धंधा किया जा रहा था. एसपी संजीव कुमार ने बताया कि पूछताछ में बहुत सारे तथ्य सामने आये हैं. उसकी जांच की जायेगी. गिरफ्तारी में एएचटीयू राजे कुजूर, अरविंद कुमार, मोजिबुल हक सहित शस्त्र बलों ने सराहनीय भूमिका निभायी.