मुंगेर-खगड़िया-बेगूसराय रेलखंड पर यात्री करते हैं मौत का सफर

– बढ़ती गई यात्रियों की संख्या, नहीं बढ़ सका कोच – गेट, पायदान पर लटक कर यात्रा करने को विवश हैं यात्री

– आए दिन ट्रेन से यात्रियों के गिरने की घटना आ रही है सामने – मुंगेर-बेगूसराय-खगड़िया रेल सेक्शन पर सात कोच की चलती है ट्रेन – 3000 से 4000 के बीच रोज सफर कर रहे लोग

केएम राज, संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर): मुंगेर जमालपुर तिलरथ-खगड़िया बेगूसराय के बीच रोजाना यात्रा करने वाले यात्रियों की तादाद भी करीब दस गुना बढ़ चुकी है। लेकिन, रेलखंड पर चलने वाली ट्रेन में डिब्बों की संख्या नहीं बढ़ाई गई है। मुंगेर गंगा ब्रिज होकर रेल गाड़ी के परिचालन के शुभारंभ से अब तक मात्र सात बोगियों वाली ट्रेन ही चल रही है। जबकि प्रत्येक दिन 3000 से 4000 के बीच यात्री सफर करते हैं। नतीजा यह कि यात्री जान जोखिम में डाल खिड़की, दरवाजे पर लटक कर यात्रा करने को विवश हैं। ज्यादा भीड़ के कारण यात्रियों की जानें भी जा रही है। मुंगेर से इन जगहों पर चलने वाली दो पैसेंजर आठ राउंड अप और डाउन लगाती है। ये ट्रेनें सभी लोकल स्टेशनों के यात्रियों को लेकर चलती है। जिसके चलते ये दोनों ट्रेनों आज भी लोकल यात्रियों के लिए एकमात्र सहारा बनी हुई हैं। रेलवे अफसरों के अनुसार सात बोगी वाली ट्रेन में औसतन 600 लोग आराम से बैठकर सफर कर सकते हैं, लेकिन ऐसे हालात बन नहीं पा रहे हैं और दोगुने यात्री आवागमन कर रहे हैं।

————————

बाक्स पर्व सीजन के चलते यात्रियों की संख्या बढ़ी ट्रेन में इतनी भीड़ रहती है कि लोग जान जोखिम में डालकर गेट पर लटककर या फिर खड़े होकर यात्रा कर रहे हैं। हर बोगी को 90 से 100 पैसेंजर क्षमता के अनुसार डिजाइन किया गया है। किसी विशेष दिन और छठ जैसे त्योहारी सीजन में यात्रियों की संख्या और भी बढ़ जाती है।

————————

बाक्स पैर रखने तक की जगह नहीं होती लोकल ट्रेन में कई बार इतनी भीड़ होती है कि पैर रखने तक की जगह नहीं होती। गेट के पास ही कई यात्री बैठकर या लटककर सफर करते हुए दिखाई देते हैं।

———————–

बाक्स लंबित है कोच बढ़ाने का मामला इस सेक्शन पर चलने वाली ट्रेनों में कोच बढ़ाने का मामला लंबित है। हर बार अधिकारी डिब्बों की संख्या बढ़ाने का आश्वासन देते हैं। लेकिन, अब तक डिब्बों की संख्या नहीं बढ़ सकी है। इस कारण यात्रियों को परेशानी हो रही है।

———————–

बोले प्रमंडलीय आयुक्त

प्रमंडलीय आयुक्त पंकज कुमार पाल ने कहा कि अन्य दिनों में भी मुंगेर-खगड़िया-बेगूसराय के बीच चलने वाली ट्रेन में काफी भीड़ रहती है। इस कारण यात्रियों को खड़े रहने की भी जगह नहीं मिलती है। पैसेंजर ट्रेन में डिब्बों की संख्या बढ़ाने के लिए डीआरएम को पत्र लिखा जाएगा।

Posted By: Jagran