पटना : सब इंस्पेक्टर के 1120 और कांस्टेबल के 8619 पदों पर होगी भर्ती, आरपीएफ में दारोगा-सिपाही बहाली के लिए परीक्षा 19 दिसंबर से शुरू

पटना : रेलवे सुरक्षा बल में सब इंस्पेक्टर के  1120 और कांस्टेबल के 8619 पदों के लिए 19 दिसंबर से परीक्षा होगी. इसके लिए पूरे देश को छह समूहों में बांटा गया है. एक व्यक्ति एक ही जोन में परीक्षा दे सकता है. परीक्षा ऑनलाइन (कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट ) होगी.  परीक्षा केंद्र इस प्रकार बनाये गये हैं कि किसी भी आवेदक को अपने गृह जिला से 200 किमी से दूर नहीं जाना पड़े. 

महानिदेशक आरपीएफ अरुण कुमार ने शनिवार को पटना में आरपीएफ आैर एसआपीएफ कुल 9739 पदों के परीक्षा कार्यक्रम की घोषणा की. सबसे पहले ग्रुप-ई (नार्थ फ्रंटियर रेलवे)  की 19 दिसंबर को परीक्षा होगी. इसके बाद ग्रुप एफ, ग्रुप ए, बी सी और ग्रुप डी की परीक्षा होगी. जिनका आवेदन सही पाया गया है उनको रोल नंबर जारी किये जा रहे हैं.

16 नवंबर तक सभी को ईमेल के जरिये यह मिल जायेंगे. नौ दिसंबर तक ई- कॉल लैटर भी जारी कर दिया जायेगा. परीक्षा से जुड़ी जानकारी 11 नवंबर तक विभाग की वेबसाइट पर अपलोड कर दी जायेगी. डीजी ने बताया कि इस परीक्षा को ईस्ट कोस्ट रेलवे संचालित कर रहा है. भुवनेश्वर में हेल्प डेस्क बनायी गयी है. फोन और ईमेल से आवेदक अपनी समस्या रख सकते हैं. 

सुरक्षा को लेकर किसा मंथन, जल्द लांच होगा एप 

 डीजी आरपीएफ अरुण कुमार ने बताया कि यात्री सुरक्षा और आरक्षित टिकट को लेकर फ्राॅड करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है. बल की कमी के कारण सभी ट्रेनों में एस्कार्ट नहीं हो पा रही है. जहां चेन पुलिंग अधिक होती है, अपराध की घटनाएं हो रही हैं वहां शार्ट टाइम एस्कार्ट दिया जा रहा है. जीआरपी से कोआर्डिनेशन के लिए एडीजी रेल आलोक कुमार के साथ भी बैठक की. 

ईसीआर में भी बल की कमी है. डीजी ने बताया कि रेड मिर्ची और अन्य साफ़्टवेयर से तत्काल टिकट बुक करने वाले गिरोहों पर भी बड़ी कार्रवाई की गयी है. जहां से साफ्टवेयर दिया गया है उन पर भी कार्रवाई होगी. 500 से अधिक गिरफ्तारी कर 10 करोड़ का टिकट जब्त किया गया है. फर्जी आईडी और एक ही आईपी से टिकट बनाने वाले आरपीएफ के निशाने पर हैं.

दो नवंबर को दस शहरों में छापेमारी की गयी थी. छठ को लेकर भी विशेष इंतजाम किये गये हैं. दिल्ली के विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर 1000 कांस्टेबल मदद को लगाये गये हैं.   रेलवे जल्दी ही ऐसा एप लांच कर रहा है जिसमें यात्री के साथ कोई भी और कहीं भी घटना हो एप पर शिकायत करने से स्वत: ही संबंधित विभाग या बल के पास चली जायेगी. आरपीएफ के सामने क्षेत्राधिकार संबंधी दिक्कत भी है. अरुण कुमार ने अक्टूबर तक विभाग की उपलब्धियों की भी जानकारी दी.   

रेल रोकने वाले नहीं लड़ पायेंगे चुनाव        

 डीजी आरपीएफ अरुण कुमार ने बताया के राजनीतिक दलों में रेल रोकने का चलन बढ़ा है. ऐसे लोगों के खिलाफ रेलवे एक्ट की धारा 174 के तहत सजा दिलाने को अभियान चलाया जायेगा. रेलवे एक्ट में अधिक प्रमाण की जरूरत नहीं होती है. वीडियाे और फोटो भी प्रमाण होते हैं. इससे दोषियों को आसानी से दंड दिलाकर चुनाव लड़ने से वंचित किया जा सकेगा.

कांस्टेबल के एक पद के लिए 8807 के बीच होगा मुकाबला

आरपीएफ में कांस्टेबल बनने के लिए बड़ी मारामारी है. एक पद के लिए 8807 आवेदन आये हैं.   कांस्टेबल के 8619 पद हैं जबकि इनके लिए आवेदन 59 लाख 8861 आये हैं. इसी तरह सब इंस्पेक्टर के लिए एक पद पर  1273 के बीच मुकाबला है. 1120 पदों के लिए 14 लाख 25 हजार 755 आवेदन आये हैं. 

इस क्रम में होगी जोनवाइज परीक्षा  

ग्रुप ई- नार्थ फ्रंटियर रेलवे 

ग्रुप एफ- आरपीएसएफ

ग्रुप ए- साउथ रेलवे, साउथ वेस्ट रेलवे और साउथ सेंट्रल रेलवे

ग्रुप बी – सेंट्रल रेलवे, वेस्टर्न रेलवे, वेस्ट सेंट्रल रेलवे, और एसईसी रेलवे 

ग्रुप सी- ईस्टर्न रेलवे, ईस्ट सेंट्रल रेलवे, साउथ ईस्टर्न रेलवे , ईसीओ रेलवे 

ग्रुप डी-नार्दन रेलवे, एनई रेलवे, एनडब्लू रेलवे, नार्थ सेंट्रल रेलवे, 

लोक आस्था का महापर्व. पुलिस उपमहानिरीक्षक, जिलाधिकारी, एसएसपी सहित प्रशासनिक अधिकारियों ने की तैयारी पूरी होने की घोषणा