नहीं चलेंगी निजी नावें, मोटर बोट से होगी छठ घाटों की निगरानी

मुजफ्फरपुर(जेएनएन)। छठ पूजा के दौरान अखाड़ाघाट समेत शहर के सभी नदी घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होंगे। वाच टावर व मोटर बोट से घाटों की निगरानी की जाएगी। पूजा के दौरान निजी नावों का परिचालन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। नदी में चार फीट की गहराई पर खतरे का निशान लगाकर घेराबंदी की जाएगी, ताकि उसके आगे कोई नहीं जा सके। घाटों की खरीद-बिक्री करनेवालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। निगरानी के लिए शनिवार से गृह रक्षकों की तैनाती रहेगी। पूजा के दौरान नावों पर जिला प्रशासन के गोताखोर मौजूद रहेंगे, ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना को वे रोक सकें।

नगर निगम पूजा से जुड़े सभी घाटों की साफ-सफाई का काम पूरा कर लेगा। साथ ही, प्रकाश की व्यवस्था व कंट्रोल रूम का काम निगम पूरा करेगा। घाटों पर छठव्रतियों के कपड़ा बदलने के लिए कक्ष का निर्माण कराया जाएगा। घाटों के समीप यूरिनल का भी निर्माण किया जाएगा। इस आशय का निर्देश डीएम मो. सौहैल ने शुक्रवार को अखाड़ाघाट, आश्रम घाट, लकड़ीढाही घाट व तीन पोखरिया का निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ नगर आयुक्त संजय दुबे, एसडीओ पूर्वी कुंदन कुमार, निगम के कार्यापालक अभियंता सुरेश कुमार समेत जिला एवं निगम प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

खुले में शौच करनेवालों पर लगेगा जुर्माना

अखाड़ाघाट का निरीक्षण करने के दौरान डीएम ने नदी किनारे शौच कर रहे लोगों को देखा। उन्होंने तत्काल पुलिस जवानों को उनको पकडऩे को कहा। जैसे ही पुलिस वाले उनकी ओर लपके वे भाग निकले। डीएम ने घाट निगरानी का निर्देश दिया। खुले में शौच करनेवालों को पकड़ बीस रुपये का जुर्माना लगाने का निर्देश दिया। स्थानीय पार्षद प्रतिनिधि को लोगों को खुले में शौच नहीं करने के लिए जागरूक करने को कहा।

कबाड़ी को हटाने का मिला निर्देश

अखाड़ाघाट पर चल रहीं कबाड़ की दुकानों को डीएम ने हटाने का निर्देश दिया। एसडीओ पूर्वी को कार्रवाई के लिए कहा गया। डीएम ने पाइप के सहारे नदी में बहाए जा रहे दूषित पानी पर नाराजगी जताई। उन्होंने एसडीओ पूर्वी को संबंधित फैक्ट्री के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का निर्देश दिया। पहुंच पथ को पूरी तरह से अतिक्रमण मुक्त करने का भी निर्देश दिया।

Posted By: Ajit Kumar