चौकीदार अब गब्बर सिंह बन गया है : राहुल गांधी

 कांकेर (छत्तीसगढ़), 10 नवंबर (आईएएनएस/वीएनएस)। चुनाव प्रचार थमने के अंतिम दिन शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चारामा में जनसभा को संबोधित किया।

 उन्होंने कहा, “छत्तीसगढ़ अमीर प्रदेश है, फिर भी यहां की जनता गरीब है, क्योंकि यहां का पैसा छीनकर चौकीदार, जो अब गब्बर सिंह बन गया है, देश में सबसे अमीर लोगों को दे रहा है।”
राहुल ने कहा कि नरेंद्र मोदी पहले भ्रष्टाचार से लड़ने की बात कहते थे, रोजगार देने की बात कहते थे, पर अब कुछ नहीं कहते, क्योंकि इस प्रदेश में उनका मुख्यमंत्री खुद भ्रष्टाचार में डूबा है। उनके बेटे अभिषेक सिंह का नाम पनामा पेपर मामले में है। रमन सिंह का बेटा होने के चलते कार्रवाई नहीं हुई। यहां चिटफंड और नान घोटाला भी हुआ, हजारों लोगों के पैसे लूट लिए गए।

कांग्रेस प्रमुख ने कहा, “पनामा पेपर मामले में पाकिस्तान में प्रधानमंत्री पर कार्रवाई हुई, उसे जेल भेजा गया और यहां सीएम के बेटे पर कोई कार्रवाई नहीं होती। 2 करोड़ रोजगार की बात मोदीजी ने कही थी, लेकिन छतीसगढ़ में यहां के लोगों से रोजगार छीन कर आउटसोर्सिग की गई।”

राहुल ने कहा, “गांव में जिनके पास जमीन नहीं, उन्हें हम जमीन देंगे। मनरेगा चलाने में हर साल यूपीए सरकार 35 हजार करोड़ रुपये लगाती थी। मगर उससे दोगुने पैसे तो मोदीजी के दोस्त लेकर भाग गए। उन्हें पकड़ा नहीं गया और किसानों का कर्ज माफ करने के लिए इनके पास पैसे नहीं हैं। हमने पंजाब में किसानों का कर्ज माफ किया। कर्नाटक में कर्ज माफ किया। रमन सिंह सिर्फ उद्योगपतियों की मदद करते हैं।”

उन्होंने कहा, “मेरे परिवार का बस्तर के लोगों से पुराना रिश्ता है। मैं आपसे वादा करता हूं कांग्रेस की सरकार बनी तो सिर्फ 10 दिनों में सभी किसानों का कर्जा माफ कर दिया जएगा। रमन सिंह ने वादे किए उसे पूरा नहीं किया। 2 साल का बोनस नहीं दिया, उनका वादा हम पूरा करेंगे। वो दो साल का बोनस हम देंगे।”

राहुल ने कहा, “बैंक के 12 लाख करोड़ रुपये मोदीजी ने उद्योगपतियों को दे दिया है। हम चाहते हैं कि इन पैसों से युवाओं को रोजगार मिले। उन्होंने तिजोरी की चाबी 15 लोगों को दे दी है। हम तिजोरी की चाबी जनता को देना चाहते हैं।” जाते-जाते उन्होंने कहा कि ‘जीएसटी गब्बर सिंह टैक्स है।”

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)