Zika Virus : एक गर्भवती समेत जीका के 3 नए मरीज, एक संदिग्ध की मौत

Publish Date:Sat, 10 Nov 2018 05:21 PM (IST)

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। जीका वायरस से पीड़ित 3 मरीज शुक्रवार को मिले हैं। इनमें दो भोपाल व एक सागर का है। भोपाल के मरीजों में एक गर्भवती भी है। एम्स भोपाल में हुई जांच में इन मरीजों में प्रारंभिक तौर पर जीका वायरस होने की पुष्टि हुई है। अंतिम जांच के लिए इनके सैंपल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे भेजे गए हैं। इसके अलावा एक युवती के मौत की जानकारी भी सामने आई है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने इसकी पुष्टि नहीं की है। भोपाल में अब इस बीमारी से पीड़ित मरीजों की संख्या 9 हो गई है। पहला मरीज करीब 15 दिन पहले चार इमली क्षेत्र में मिला था।

गर्भवती महिला में जीका वायरस की एम्स से पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य महकमे मे हड़कंप मच गया है। इसकी वजह यह कि जीका वायरस का सबसे ज्यादा खतरा गर्भवती महिला को रहता है। गर्भावस्था के दौरान जीका होने पर शिशु का सिर छोटा हो जाता है। उसे अन्य जन्माजात बीमारियां भी हो सकती हैं।

प्रदेश में भोपाल के अलावा विदिशा, सीहोर और सागर जीका से प्रभावित हैं। सभी जिलों में जीका वायरस को लेकर बुखार के मरीजों और लार्वा सर्वे किया जा रहा है। इस दौरान गर्भवती महिलाओं का अलग से सर्वे किया जाता है। भोपाल में किए जा रहे सर्वे में हर दिन करीब 80 गर्भवती महिलाएं मिल रही हैं। शुक्रवार को भी इतनी ही महिलाएं मिली हैं।

जीका की रोकथाम के लिए शहर में लगी 124 सर्वे टीमों ने शुक्रवार को 5170 घरों का सर्वे किया। इनमें 222 घरों में लार्वा पाया गया है। इन घरों में 30 हजार बर्तनों की जांच में 244 कंटेनर्स में लार्वा मिला है।

भोपाल के 10 मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे

भोपाल में तीन अलग-अलग टीमों ने बुखार से पीड़ित 10 संदिग्ध मरीजों के नमूने लिए हैं। यह नमूने जांच के लिए एम्स भोपाल भेजे गए हैं। शनिवार को जांच के के बाद बीमारी का पता चलेगा। जीका प्रभावित 4 जिलों से 25 नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं।

जीका के लक्षण

– बुखार, शरीर में चकत्ते, आंखों के पिछले हिस्से, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द, आंखे लाल होना।

ऐसे फैलता है जीका वायरस

-वायरस से संक्रमित एडीज मच्छर के काटने पर, गर्भवती महिला से शिशु को, यौन संपर्क और संक्रमित खून से।

डेंगू के सात नए मरीज मिले, 500 के ऊपर पहुंचा आंकड़ा

डेंगू बुखार के 25 संदिग्ध मरीजों की जांच शहर की अलग-अलग लैब में की गई। इनमें 7 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इस साल डेंगू मरीजों का आंकड़ा 500 के ऊपर पहुंच गया है। चिकनगुनिया और स्वाइन फ्लू के एक भी मरीज नहीं मिले हैं।

अपनी प्रतिक्रिया दें